Union Public Service Commission Details 2019

Union Public Service Commission Details

Union Public Service Commission Details 2019 संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा UPSC ki Jankari Hindi Me 2019 के लिए तैयारी शुरू करने के पूर्व यह बहुत महत्वपूर्ण होता है कि आपके पास संपूर्ण परीक्षा प्रणाली, सिलेबस परीक्षा की संरचना और परीक्षा संबंधी अन्य विभिन्न मुद्दों की पूर्ण समझ हो! Union Public Service Commission Details 2019 हाल ही में देखा गया है की सिविल सेवा परीक्षा प्रणाली मैं व्यापक बदलाव हुए हैं यह बदलाव परीक्षा के पाठ्यक्रम परीक्षा की पद्धति अभ्यार्थियों हेतु अवसर की सीमा एवं आयु संबंधी है तथा भविष्य में भी कुछ बदलाव हो सकते हैं |

UPSC ki Jankari Hindi Me 2019 कभी कभी देखा जाता है कि कई अभ्यर्थियों को परीक्षा संबंधि पूर्ण जानकारी नहीं होती है आधी अधूरी जानकारी लेकर चलते हैं  नए व्यक्तियों के सामने परीक्षा संबंधी कई प्रश्न होते हैं जो विज्ञापन को अच्छे से पढ़कर दूर किया जा सकते हैं वर्तमान परीक्षा प्रणाली में हुए परिवर्तन को ध्यान में रखते हुए यहां बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है कि संबंधित परिवर्तनों की अच्छी समझ हेतु विज्ञापन का गहराई से अध्ययन किया जाए !

Union Public Service Commission UPSC India जब आप लोग इस बात को जानेंगे कि आयोग आपसे क्या चाहता है? और आपने क्या पूछता है? तब परीक्षा हेतु आपका ध्यान ज्यादा प्रभावशाली और सफलता केंद्रित होगा !तैयारी की प्रत्येक चरण में आपको एक बार ध्यान में रखनी चाहिए कि प्राप्तांको को उतना महत्व नहीं है जितना महत्व इस बात का है कि परीक्षा में सफलता प्राप्ति हेतु आप अन्य व्यक्ति की तुलना में कितना बेहतर कर पाते हैं |

परीक्षा की प्रकृति को निम्नलिखित बिंदुओं के आधार पर समझा जा सकता है-

  • विज्ञापन का संपूर्ण अवकलन करना
  • परीक्षा पाठ्यक्रम और परीक्षा की मांग को समझना
  • पिछले वर्ष के प्रश्न पत्र का गहराई से समग्र विश्लेषण करना और वतमान परीक्षा प्रवित्तियों को समझना
  • परीक्षा के बारे में शिक्षकों सफल अभ्यर्थियों और असफल अभ्यर्थियों वरिष्ठ अभ्यर्थियों और मित्रों आदि से चर्चा करना

“मुझे पेड़ काटने के लिए 6 घंटे का समय मिलेगा तो मैं पहले 4 घंटे कुल्हाड़ी को धार देने में लगाऊंगा” –अब्राहम लिंकन

Union Public Service Commission Details UPSC

अब हम प्रत्येक बिंदु पर अलग-अलग चर्चा करेंगे

शैक्षणिक योग्यता Education

किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक की उपाधि प्राप्त होना चाहिए |

आयु सीमा Age

  • सामान्य अभ्यार्थी के लिए यह आयु सीमा 21 वर्ष से कम तथा 32 वर्ष से अधिक ना हो
  • अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए यह आयु सीमा 21 वर्ष से कम तथा 35 वर्ष से अधिक ना हो
  • अनुसूचित जाति और  अनुसूचित जनजाति से संबंधित अभ्यार्थियों हेतु यह आयु सीमा यह आयु सीमा 21 वर्ष से कम तथा 37 वर्ष से अधिक ना हो

अवसरों की संख्या

  • सामान्य वर्ग के व्यक्ति हेतु वर्तमान में 6 प्रयास है
  • अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित अभ्यार्थियों हेतु वर्तमान में नाव प्रयास है तथा
  • अनुसूचित जाति  और अनुसूचित जनजाति से संबंधित विद्यार्थियों के लिए प्रयास की कोई सीमा लागू नहीं है अर्थात वे 37 वर्ष परीक्षा में शामिल हो सकते हैं

परीक्षा की योजना- यह परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है |

UPSC Preliminary Examination यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा

  • सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा जो कि ऋणात्मक अंको की व्यवस्था के साथ वस्तुनिष्ठ प्रकार की होती है !
  • प्रारंभिक परीक्षा एक स्क्रीनिंग परीक्षा है जिसके द्वारा मुख्य परीक्षा हेतु कुछ हजार उम्मीदवारों का चयन किया जाता है !
  • अंतिम परिणाम में प्रारंभिक परीक्षा के अंकों को शामिल नहीं किया जाता है !
  • इस परीक्षा का प्रथम प्रश्न पत्र सामान्य अध्ययन GS 200 अंक का होता है! तथा द्वितीय प्रश्न पत्र सिविल सेवा अभिरुचि परीक्षा CSAT 200 अंक का होता है जो केवल क्वालीफाई स्तर 33% का होता है मतलब कि इसके नंबर मुख्य परीक्षा हेतु बनने वाली मेरिट में नहीं जोड़े जाते !
  • इसका सीधा सा मतलब है कि मुख्य परीक्षा हेतु बनने वाली मेरिट केवल प्रथम प्रश्न पत्र के पेपर के आधार पर बनती है, दूसरे प्रश्न पत्र C.SET  में केवल 33% अंकों के साथ पास होना अनिवार्य होता है !
  • द्वितीय प्रश्न पत्र अर्थात C.SET के क्वालीफाई हो जाने के कारण अब यह विशेष रूप से गैर तकनीकी पृष्ठभूमि के अभ्यार्थियों,ग्रामीण पृष्ठभूमि के अभ्यर्थियों के लिए आसान हो गया है इसके पूर्व यह अभ्यार्थी द्वितीय प्रश्न पत्र की योग्यता  निर्धारण के मुख्य भूमिका होने के कारण नुकसान की स्थिति में रहते थे यह प्रश्न पत्र उनके अनुकूलन नहीं था अब परीक्षा प्रणाली प्रत्येक अभ्यर्थी के लिए समान स्तर की हो गई है या तो सबके लिए कठिन है या सबके लिए समान्य |
  • सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हेतु इसका बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान होता है स्कूल 2050 अंको की होती है
  • वर्तमान में अभ्यार्थी को एक व्यक्ति एक वैकल्पिक विषय का चयन करना होता है जिसके दो प्रश्न पत्र (प्रत्येक- 250 अंक) होते हैं
  • निबंध का एक पात्र होता है जो दो खंडों में विभाजित होता है तथा प्रत्येक खंड से एक निबंध लिखते हुए कुल दो निबंध लिखने होते हैं !प्रत्येक निदान हेतु 1250 शब्द सीमा निर्धारित होती है वर्तमान में निबंध हेतु 250 का निर्धारित किए गए हैं!
  • सामान्य ज्ञान के 4 प्रश्न पत्र होते हैं तथा प्रत्येक प्रश्न पत्र हेतु 250 निर्धारित किए गए हैं
  • इसके अलावा दो अनिवार्य क्वालीफाई प्रश्न पत्र प्रत्येक 300 अंक होते हैं जिनके अंक इंटरव्यू के लिए बनने वाली मेरिट में नहीं जोड़े जाते !  अर्थात इन दोनों पत्रों में केवल क्वालीफाई होना होता है इसमें पहला अंग्रेजी भाषा का प्रश्न पत्र होता है इसमें अहर्ता प्राप्त करने हेतु न्यूनतम 25% अंक (300 अंक मै से)  लाने होते हैं तथा दूसरे प्रश्न पत्र के रूप में आप सविधान की आठवीं अनुसूची में वर्णित किसी एक भाषा को चुन सकते हैं इसमें अहर्ता प्राप्त करने हेतु न्यूनतम 30% अंक में से लाने होते हैं |

UPSC Interview यूपीएससी इंटरव्यू

  • मुख्य परीक्षा परिणाम के आधार पर विभिन्न सेवाओं हेतु विज्ञापित पदों की संख्या का लगभग 3 गुना व्यक्तियों को आयोग द्वारा साक्षात्कार हेतु बुलाया जाता है
  • इंटरव्यू हेतु 275 अंक निर्धारित किए गए हैं

तो यहां तक हमने सिविल सेवा की संपूर्ण परीक्षा की पद्धति को  समझा आप बात आती है कि इसकी तैयारी किस प्रकार की जाए

UPSC की अध्ययन कैसे करें

समझ स्पष्टता हेतु पढ़ें

समय की बचत हेतु परीक्षा पैटर्न अभाव के सिलेबस के अनुसार ही अध्ययन करें किसी निश्चित आती क्या विषय हेतु एक या दो माना पुस्तके पढ़ें एक टॉपिक हेतु कई पुस्तकें पढ़ने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है आपको सिविल सेवक बनना है ना कि विद्वान सिविल सेवा परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त हेतु विषय वस्तु को एक दूसरे के साथ अंतर संबंधित करते हुए पढ़ना चाहिए इस प्रकार की प्रक्रिया के द्वारा आप चीजों को लंबे समय तक याद रख पाएंगे !

आपको किसी भी पुस्तक का उच्च स्तर तक दिया नहीं करना है आपको केवल सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए अध्ययन करना है ना कि उस विषय का विद्वान बनने के लिए !  स्पष्टता के साथ विषय का मूलभूत ज्ञान परीक्षा में सफलता के लिए पर्याप्त है और सिविल सेवा परीक्षा के विशाल पाठ्यक्रम को तैयार करने की भी एक मानवीय सीमा होती है इस सीमा के बाहर जाकर कुछ भी तैयार नहीं हो सकता यहां पर हम आपको यूपीएससी UPSC/IAS व अन्य टॉपर State PSC की परीक्षा हेतु Toppers द्वारा सुझाए गए महत्वपूर्ण पुस्तकों की सूची उपलब्ध करा रहे हैं जो आपको सिविल सभी पुस्तकों के चयन में मदद करेगी !

तैयारी के दौरान कुछ महत्वपूर्ण  बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए जो निम्न है

  • तैयारी परीक्षा केंद्रित होना चाहिए और आपका कठिन परिश्रम सही दिशा में होना चाहिए
  • प्रत्येक टॉपिक पढ़ते समय उद्देश्य होना चाहिए कि उस टॉपिक की मुलभुत समझ आ जाए
  • आपका अधिकतर समय सोचने और परिचर्चा में खर्च होना चाहिए ना कि कई पुस्तकों से अध्ययन सामग्री पढ़ने में
  • मेरे अनुसार सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हेतु सबसे पहले किसी भी टॉपिक का ध्यान करें उसके बाद चिंतन करें और उसके बाद उसका लेखन करें
  • पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों का गहराई से विश्लेषण करें जिससे कि आप परीक्षक की मांग को समझ सके
  • परीक्षा में सफलता हेतु इस बात को जानना अधिक आवश्यक है क्या नहीं पढ़ना है

समूह परिचर्चा

आज जो कुछ भी पढ़ते हैं उसकी अपने मित्रों और साथियों के साथ चर्चा अवश्य करें आप किसी भी टॉपिक पर बोलने में तभी सक्षम होंगे जब आपने संबंधित टॉपिक विषय का गहराई से अध्ययन किया होगा टॉपिक की परिचर्चा के द्वारा आप उस टॉपिक से संबंधित विभिन्न मुद्दों को जान पाते हैं और आपके सम्मुख टॉपिक से संबंधित  कई नवीन प्रश्न भी उत्पन्न होती है

दोहराना

आप जो खुद ही पढ़ रहे हैं नियमित अंतराल में उसे दोहराते चले टॉपिक या विषय की दोहराव के द्वारा आप इससे संबंधित विभिन्न दृष्टिकोण ओं के बारे में सोचते हैं और यह आपको एक अच्छी समझ प्रदान करता है इस बात का हमेशा प्रयास करना चाहिए कि जो टॉपिक आपने पूर्व में पढ़ लिया है नए टॉपिक क्या विषय में प्रवेश करने से पहले उसका दोहराव हो जाए |

Current Affairs || GK || Sarkai Nukari || Today Rojgar 

Leave a Comment